Connect with us

Health

History of Masturbation | Hastmaithun in Hindi

Published

on

History of Masturbation

History of Masturbation : हमरे देश की संस्कर्ति सेक्स के बारे में हमेशा से ही पॉजिटिव रही है। जैसा की हम जानते है अजंता एलोरा की गुफाओं में सेक्स के लिए दिखायी गयी अलग अलग मुर्तिया दर्शाती है की सेक्स का इतिहास बहुत पुराना है। आज से 1700 से साल पहले बहुत ही प्रसिद्ध “कामसूत्र” नाम के ग्रन्ध की रचना भारत में ही हुई थी। कामसूत्र को वात्स्यायन दुवारा रचा गया था।

ये सब चीज़े हमें बताती है कि सदा से ही भारत का सेक्स के लिए पॉजिटिव नजरिया रहा है। हमारे उपनिषदों, ग्रंथों में धर्म, अर्थ और काम, तीनो चीज़ों को जीवन की मूलभूत आवशयकताओ में गिना गया है। कामसूत्र में लिखी हुई बहुत ही बाते वैज्ञानिक रूप से प्रमाणित हो चुकी है।

ये सब चीज़े हमें बताती है कि सदा से ही भारत का सेक्स के लिए पॉजिटिव नजरिया रहा है।

आज की पीड़ी में सेक्स की परिभाषा अलग है। सेक्स एक गन्दगी बन चुक्का है। हस्तमैथुन करना सेहत के लिए ख़राब है या इस से बॉडी में कुछ शारीरिक बीमारी बन जाती है। चलिए जानते है की ऐसी बातें आई कहा से है।

Must Read

History of Masturbation हस्तमैथुन और इसका इतिहास

दोस्तों आपको जान कर बड़ा आश्चर्य होगा कि पश्चिमी संस्कर्ति जिसको हम इतना ओपन मानते है सेक्स के लिए ऐसी वो नहीं है। ईयर 1712 में एक अनजान पोर्नोग्राफर और एक झोलाछाप डॉक्टर ने एक लेख (टेम्पलेट) लिखा जिसका नाम उसने नाम दिया “onanism” ओननिज़्म। ओननिज़्म में उन्होंने बताया की हमारे शरीर की अत्यधिक शक्ति वीर्य में होती है और वीर्य डिस्चार्ज करने से आप अशुद्ध हो जायेंगे और इस से बहुत सारी बीमारी भी हो सकती है।

उस वक़्त यूरोप में सेक्स के बारे में कोई वैज्ञानिक जानकारी नहीं थी। इसलिए जाहिर है कि इस एक छोटी सी जानकारी ने लोगो की सोच को पूरी तरह से बदल दिया था। उस वक़्त से ही इस धारणा को वह के लोगो का समर्थन मिला कि Masturbation यानि की वीर्य निकलने का ये जो प्रोसेस है इस से हम युवा लोगो को बचाएं ताकि उन्होंने कोई बीमारी न हो सके।

उस वक़्त बहुत सारे एंटी मस्टरबैशन अभियान चले. ये अभियान 19th सेंचुरी तक चला था। उस समय के डॉक्टर्स ने अभी अपनी सहमति दी की मस्टरबैशन से गन्दी कोई और चीज़ नहीं है इस से जिस भी तरह की बीमारियो को आप सोच सकते है वो सब हो सकती है।

दुर्भाग्य से हमारे देश पर विदेशियों का राज रहा और उन्होंने हमारी संस्कर्ति को पूरी तरह से नष्ट करने की कोशिशें की। हम भारतीयों की सोच भी अब हमारी नहीं रही है हम भी वैसा ही सोचते है जैसा कि विदेशी सोचते थे। और अब हम भी ये मानते है की masturbation बुरी चीज़ है।

Disclaimer : सभी जानकारी केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए है, हम यहां किसी भी यौन गतिविधि को बढ़ावा नहीं देते हैं। अगर आपको इस सामग्री से कोई समस्या है तो हमें rajkum2145@gmail.com पर सूचित करें

Hello friends my name is Prince Jose and you all are welcome on our website onlinetrendzs.com.

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Trending

Copyright © 2020 Prince Jose.